34.7 C
नरसिंहपुर
May 19, 2024
Indianews24tv
मनोरंजन

जब बाथरूम में खूब रोए मनोज बाजपेयी, 56 साल के फिल्ममेकर को लेकर बोले, ‘उनके साथ ऐसा कैसे हो सकता है?’


नई दिल्लीः मनोज बाजपेयी अक्सर अपने प्रोफेशनल और पर्सनल सफर के बारे में बताते हुए अपने मन की बात कहते रहते हैं. अभिनेता को-स्टार्स और दोस्तों के साथ अपने मतभेदों से संबंधित सवालों का जवाब देने से कभी नहीं कतराते. सिद्धार्थ कन्नन के साथ हाल ही में एक इंटरव्यू में मनोज ने हंसल मेहता के साथ अपने पिछले मतभेदों का खुलासा किया और इसका उन पर क्या प्रभाव पड़ा.

मनोज बाजपेयी को हंसल मेहता के साथ अनबन का अफसोस है
मनोज ने संघर्ष के शुरुआती दिनों में हंसल के साथ अपने मतभेदों पर खेद व्यक्त किया. उन्होंने याद किया कि जब प्रोटेस्टर्स ने फिल्म निर्माता पर स्याही फेंकी तो उन्हें कैसा महसूस हुआ था. अभिनेता ने कहा, ‘यह हम सभी के लिए कठिन समय था. मेरा करियर मुझसे दूर जा रहा था, एक ऐसा करियर जो मुझे बहुत मेहनत के बाद मिला था. कई अन्य लोग इस प्रोजेक्ट में आए, कुछ मेरी वजह से, कुछ हंसल की वजह से. उसके बाद हालात ठीक नहीं थे. हां, आपको बुरा लगता है, लेकिन मैं उस तरह का व्यक्ति नहीं हूं जो तर्कों को खुद पर असर डालने देता है. मुझे जो बुरा लग रहा है वो यह है कि हंसल को उस विरोध प्रदर्शन से गुजरना पड़ा और लोगों ने उसके चेहरे पर स्याही लगा दी. जब ऐसा हुआ, तो उसे यह नहीं पता, मैं अपने बाथरूम में गया और रोया. उनके जैसे व्यक्ति के साथ ऐसा कैसे हो सकता है? चाहे कुछ भी हो, हंसल हमेशा मेरे लिए बहुत सहयोगी रहे हैं. जब उनकी मां की मौत हुई तो मेरा दिल टूट गया क्योंकि वो मुझे खाना खिलाती थी. जब भी मैं उनके यानी हंसल मेहता के घर पर जाता था तो सबसे पहला काम वो यही करती थीं कि मेरे सामने खाना लेकर आती थीं और सोचती थीं कि उन्होंने खाना नहीं खाया होगा.’

हंसल मेहता के साथ दोस्ती पर बोले मनोज बाजपेयी
मनोज ने आगे कहा, ‘भले ही आप मजबूत हों, एक समय के बाद आप टूट सकते हैं. जो कुछ हुआ, उसके कारण हम एक-दूसरे पर चिल्लाने लगे. लेकिन अगर आप आज मुझसे पूछें तो मैं इसे नहीं ले जा रहा हूं. यह सब उस यात्रा का हिस्सा था जिससे हम गुजरे, चाहे वह हंसल और मैं हों, चाहे वह अनुराग कश्यप और मैं हों या वह रामू (राम गोपाल वर्मा) और मैं हों. हमारे बीच कई नतीजे आए हैं. लेकिन मेरी एकमात्र समस्या यह थी कि मेरी भावना क्रोध से अधिक थी. मैं गुस्से में इसे निकाल लेता था.’ इससे मेरे दोस्तों को अधिक ठेस पहुंचती थ. अगर मैं उनके सामने रोता तो उन्हें बुरा नहीं लगता लेकिन मेरी भावनाएं हमेशा गुस्से के रूप में सामने आतीं. इसलिए जब भी मैं अपनी भड़ास निकालता था, तो सामने वाला पूरी तरह से निराश हो जाता था.’

मनोज बाजपेयी-हंसल मेहता का सहयोग
मनोज और हंसल ने दिल पे मत ले यार में साथ काम किया था जिसमें तब्बू, आदित्य श्रीवास्तव, सौरभ शुक्ला और विजय राज थे. उन्होंने सामाजिक बायोपिक-ड्रामा ‘अलीगढ़’ में भी साथ काम किया, जिसमें राजकुमार राव जैसे स्टार्स हैं. मनोज फिलहाल अपनी एक्शन-थ्रिलर भैया जी के लिए तैयारी कर रहे हैं, जो उनकी पत्नी शबाना रजा वाजपेयी द्वारा को-प्रोड्यूस है.

Tags: Bollywood celebrities, Bollywood movies, Manoj bajpai, Manoj Bajpayee



Source link

Related posts

पॉपुलर एक्ट्रेस, मनोज कुमार-शशि कपूर संग किया काम, शादी के बाद छोड़ी एक्टिंग, प्रोड्यूसर पति ने शराब के नशे में…

Ram

‘मैं सोचती हूं मैं इसे पूरा करने में सक्षम…’ राजनीति में आने को लेकर बोलीं सोनाक्षी सिन्हा, बताया आगे का प्लान

Ram

खूबसूरत ही नहीं, बवाल है 60 साल की एलेजांद्रा, नीली आंखे-मदहोश मुस्कान

Ram

Leave a Comment