शहर में जहरीली शराब सप्लाई करने वाले मुख्य आरोपित बंटी उर्फ राहुल पिता विजय बोराड़े ने आत्महत्या कर ली।

शहर में जहरीली शराब सप्लाई करने वाले मुख्य आरोपित बंटी उर्फ राहुल पिता विजय बोराड़े ने आत्महत्या कर ली।


 इंदौर। शहर में जहरीली शराब सप्लाई करने वाले मुख्य आरोपित बंटी उर्फ राहुल पिता विजय बोराड़े ने आत्महत्या कर ली। उसे सपना और पैराडाइज बार में जहरीली शराब से हुई मौत के बाद द्वारकापुरी पुलिस ने गिरफ्तार किया था लेकिन उसने देर रात जहर खा लिया। पुलिस उसे लेकर एमवायएच पहुंची। जहां बंटी ने दम तोड़ दिया।

जानकारी के मुताबिक सपना और पैराडाइज बार में शराब पीने के बाद छह लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद पुलिस और आबकारी विभाग सक्रिय हुआ। पैराडाइज बार एंड रिसॉर्ट के संचालक जोगी उर्फ योगेश यादव व सपना बार के संचालक विकास बनेड़िया शुक्रवार को पूछताछ में टूट गए। आरोपितों ने बताया नजदीकी दुकान के अलावा तस्करों से भी शराब खरीदते थे। दुकान पर 1070 रुपये में मिलने वाली शराब की बोतल तस्कर 800 रुपये तक में देते थे। एसपी के मुताबिक जोगी और विकास ने वाल्मिकी नगर के पंकज का नाम बताया है।

पंकज बंटी नामक तस्कर से शराब खरीद कर सप्लाई करता था। बंटी के बारे में जानकारी मिली कि वह थापना मांधता खंडवा के कालका प्रसाद से जुड़ा था। कालका लक्की उर्फ गौरव और रोहित निवासी सनावद जिला खरगोन के तस्करों के साथ मिलकर नकली शराब तैयार करता था। खरगोन पुलिस ने इन तीनों तस्करों को अंग्रेजी शराब के नकली टैग, ढक्कन,बॉक्स पेपर, स्टीकर, होलोग्राम, हैंड होल्डिंग मशीन, स्प्रीट व अन्य सामग्री के साथ गिरफ्तार किया है।

अब तक छह की मौत, पांच की पुष्टि कर रही पुलिस

शिशिर उर्फ छोटू चौधरी, अभिषेक अग्निहोत्री, सचिन गुप्ता, शिवनंदन रावत, सागर अग्रवाल, विशंभर सिंह की मौत शराब पीने से हो चुकी है। हालांकि पुलिस ने विशंभर की मौत की पुष्टि नहीं की है।